Bhulekh BhuNaksha » भू अभिलेख » जमीन का इकरारनामा कैसे लिखें

जमीन का इकरारनामा कैसे लिखें

जमीन का इकरारनामा कैसे लिखें jameen ka ikrarnama : जमीन का इकरारनामा आप किसी अनुभवी वकील की देखरेख में लिखें, ताकि बाद में होने वाले किसी भी वाद-विवाद से आप बचे रहें अथवा इकरारनामा लिखने में अगर आप से कोई गलती हो रही है तो वकील की सलाह के अनुसार आप उन गलतियों को ध्यान में रखते हुए सही इकरारनामा लिखें।

इकरारनामा लिखने से पहले आवश्यक दस्तावेज को भी साथ में इकट्ठा कर ले और इकरारनामा में जमीन की सारी बातों का सही प्रकार से उल्लेख करें। इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी दे रहे हैं कि “जमीन का इकरारनामा कैसे लिखें” अथवा “जमीन का इकरारनामा कैसे लिखते हैं।”

jameen-ka-ikrarnama

इकरारनामा का क्या अर्थ है ?

जमीन का इकरारनामा होने के अलावा अन्य कई इकरारनामा भी होते हैं। जैसे किसी छोटे मकान का ठेका दिया जा रहा है तो उसका इकरारनामा होता है। इसके अलावा किसी को रंगाई पुताई का काम दिया जा रहा है, तो उसका भी इकरारनामा होता है। इसके अलावा किसी भी ठेकेदार के द्वारा मजदूरी का काम करवाने का इकरारनामा, मकान की मरम्मत करवाने का इकरारनामा, किसी सामान की धुलाई करवाने का इकरारनामा होता है।

जमीन का इकरारनामा कैसे लिखा जाता है ?

नीचे हमने आपको सरल शब्दों में जमीन का इकरारनामा लिखने की प्रक्रिया दर्शाई है। नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करके जमीन का इकरारनामा लिखा जा सकता है।

1. आवश्यक दस्तावेज जमा करें

जमीन का इकरारनामा लिखने के लिए आपके पास अपने सभी आवश्यक दस्तावेज मौजूद होने चाहिए। साथ ही जिस व्यक्ति के लिए आप इकरारनामा लिख रहे हैं, उस व्यक्ति के भी सभी दस्तावेज की फोटोकॉपी होनी चाहिए। क्योंकि बिना दस्तावेज के जमीन का इकरारनामा नहीं लिखा जा सकता है।

जब जमीन का इकरारनामा लिखा जाता है, तो साथ में आवश्यक दस्तावेज की फोटो कॉपी को भी अटैच किया जाता है और एक कॉपी व्यक्ति अपने पास रखता तथा दूसरी कॉपी व्यक्ति सामने वाली पार्टी को देता है।

इसलिए पहले आवश्यक दस्तावेज इकट्ठा कर ले, जिसकी सूची आर्टिकल में दी गई है। आप चाहे तो इकरारनामा में लगने वाले आवश्यक दस्तावेज की जानकारी राज्य सरकार के राजस्व डिपार्टमेंट से भी प्राप्त कर सकते हैं।

2. स्टांप पेपर तैयार करें

पहले जहां लोग सादे पन्ने पर ही इकरारनामा लिख देते थे, वहीं अब इस प्रकार का इकरारनामा मान्य नहीं होता है। इसलिए आपको कानूनी कार्रवाई के अनुसार एक स्टांप पेपर लेना चाहिए।

यह आपको अदालत से प्राप्त हो जाएगा अथवा अगर आप के संपर्क में कोई वकील है, तो आप उनसे भी स्टांप पेपर प्राप्त कर सकते हैं। स्टांप पेपर कम से कम ₹100 का होना चाहिए।

3. स्टांप पेपर में इकरारनामा लिखें

स्टांप पेपर प्राप्त करने के पश्चात जिस व्यक्ति के लिए आप जमीन का इकरारनामा लिख रहे हैं, आपको उस व्यक्ति को अपने साथ में लेना है और उसके साथ में ही सामने बैठकर स्टांप पेपर पर इकरारनामा लिखना है। जिसके अंतर्गत आपको निम्न बातों को दर्ज करना है।

सबसे पहले आपको इकरारनामा में जिस दिन इकरारनामा लिखा जा रहा है उसकी तारीख और वार तथा साल डालना है।

अब आपको सबसे पहले अपना पूरा पता लिखना है साथ ही अपना नाम भी लिखना है। जैसे कि आपका नाम क्या है, आप के घर का पता क्या है इत्यादि जानकारियों को आपको दर्ज करना है।

अब आप जिस व्यक्ति के लिए इकरारनामा लिख रहे हैं उस व्यक्ति का पूरा नाम और उसके घर का पूरा पता आपको दर्ज करना है। कोई अन्य जानकारी मांगी जा रही है तो उसे भी आपको दर्ज करना है।

अब जिस जमीन का इकरारनामा आप लिख रहे हैं आपको उस जमीन का खसरा नंबर, गाटा संख्या या फिर प्लॉट नंबर अथवा मकान नंबर इंटर करना है। याद रखें कि यह सभी चीजें साफ तौर पर लिखी हुई होनी चाहिए।

अब आपको यह बताना है कि आप कितने पैसे में जमीन का इकरारनामा लिख रहे हैं। आपको पैसे का साफ तौर पर उल्लेख करना है साथ ही आपको इस बात का भी उल्लेख करना है कि आपको कितने पैसे प्राप्त हुए हैं और कितने पैसे आपको अभी लेने हैं। साथ ही आपको यह भी बताना है कि कौन से पेमेंट मेथड के द्वारा आप को पैसे दिए गए हैं।

जैसे कि कैस, चेक अथवा ऑनलाइन ट्रांसफर। पैसे कौन सी तारीख को दिए गए हैं, आपको यह भी दर्ज करना है और अगर आपको बाकी पैसे लेने हैं, तो उसे देने की अवधि क्या होगी। इसके बारे में भी आपको दर्ज करना है साथ ही यह भी बताना है कि अगर सामने वाली पार्टी निश्चित दिनों में पैसे नहीं देती है, तो नियम और शर्त क्या होंगी और कौन सी परिस्थितियों में इकरारनामा खारिज हो सकता है।

अगर जमीन पर कोई लोन चल रहा है तो उस लोन की डिटेल भी आपको देनी है और यह भी लिखना है कि आप उस लोन की पेमेंट करेंगे या फिर सामने वाली पार्टी उस लोन का पेमेंट करेगी।

4. हस्ताक्षर करें

उपरोक्त बताए गए सभी जानकारियों को दर्ज करने के बाद आपको इकरारनामा में नीचे की तरफ एक कोने में अपने सिग्नेचर करने हैं। अगर आप पढ़े लिखे नहीं हैं, तो आप अंगूठे का निशान लगा सकते हैं। यही क्रिया सामने वाली पार्टी को भी करनी है।

ऐसा करने से इस बात की सहमति बनती है कि आप दोनों ने इस इकरारनामा पर अपनी रजामंदी दी हुई है। अब आपको दोनों ही पार्टी के पासपोर्ट साइज की रंगीन फोटो को इकरारनामा में अटैच कर देना है और उस पर भी इस तरह से सिग्नेचर करने हैं कि आधा सिग्नेचर आपकी फोटो पर पहुंचे।

5. दस्तावेज की फोटो कॉपी अटैच करें

इकरारनामा पर अपने सिग्नेचर करने के पश्चात अथवा अपने अंगूठे का निशान लगाने के पश्चात आपको इकरारनामा के साथ दोनों ही पार्टी के आवश्यक दस्तावेज की फोटोकॉपी को अटैच करना होता है और फिर इकरारनामा के हर एक पन्ने का प्रिंट आउट निकाल कर के आपको अपने पास भी कॉपी रखनी होती है। साथ ही इकरारनामा की फोटो कॉपी सामने वाली पार्टी को भी देना होता है।

जमीन इकरारनामा में लगने वाले दस्तावेज

नीचे हमने आपको उन सभी दस्तावेज की सूची दी हुई है जिसकी आवश्यकता आपको जमीन का इकरारनामा लिखने के दरमियान पड़ सकती है। याद रखें कि सामने वाली पार्टी को भी कुछ आवश्यक दस्तावेज प्रस्तुत करना चाहिए। इसलिए जब कभी जमीन का इकरारनामा लिखने जाए तो सामने वाली पार्टी के भी दस्तावेज को चेक कर ले कि वह सही है अथवा नहीं अथवा दस्तावेज पूरे हैं या नहीं।

  • पहचान पत्र।
  • खाता प्रमाण पत्र।
  • NOC – नॉन ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट।
  • जनरल पावर ऑफ़ अटार्नी।
  • अलॉटमेंट लैटर।
  • प्रॉपर्टी टैक्स से जुड़ी लेटेस्ट रसीदें।
  • बैनामा।
  • पासपोर्ट साइज की रंगीन फोटो।

जमीन का इकरारनामा से संबंधित महत्वपूर्ण बातें

  • हमेशा आप को कम से कम ₹100 के स्टांप पेपर पर ही जमीन का इकरारनामा लिखना चाहिए।
  • अगर आप जमीन का इकरारनामा नहीं लिख पाते हैं तो आपको किसी अनुभवी वकील की सलाह लेनी चाहिए।
  • आपको जमीन का इकरारनामा वकील के सामने ही लिखना चाहिए ताकि इकरारनामा लिखने के दरमियान जो गलतियां हो रही है, उसे वकील के द्वारा बताया जा सके और उसे सही किया जा सके।
  • इकरारनामा लिखने के दरमियान सामने वाली पार्टी भी आपके सामने रहनी चाहिए।
  • इकरारनामा लिखने से पहले अपने और सामने वाली पार्टी के सभी दस्तावेज के बारे में जानकारी प्राप्त कर लें और सामने वाली पार्टी के बैकग्राउंड के बारे में भी इंफॉर्मेशन प्राप्त करें।
  • इकरारनामा कौन से नियमों का उल्लंघन करने पर रद्द हो सकता है, इसके बारे में भी अवश्य इकरारनामा में जानकारी लिखें।
  • इकरारनामा की ओरिजिनल कॉपी हमेशा अपने पास रखे और सामने वाले व्यक्ति को फोटोकॉपी दे।

जमीन विवाद हेतु कानूनी सलाह

जमीन का एग्रीमेंट कैसे होता है

क्या किराएदार मकान पर कब्जा कर सकता है

पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कैसे करें

पिता की जमीन को अपने नाम कैसे करें

सामान्य प्रश्न (FAQ)

जमीन का इकरारनामा कैसे किया जाता है ?

जमीन का इकरारनामा स्टाम्प पेपर पर वकील के समक्ष किया जाता है। इसके इकरार से सम्बंधित उन सभी बातों का उल्लेख होता है, जो दोनों व्यक्तियों के लिए महत्वपूर्ण हो।

इकरारनामा कितने समय तक मान्य है ?

इकरारनामा उस समय तक मान्य है, जो इकरारनामा में दर्शाया गया हो। जैसे – किसी जमीन की बिक्री हेतु इकरारनामा किया जा रहा हो तब जमीन की रजिस्ट्री के बाद इकरारनामे का कोई विशेष महत्त्व नहीं रह जाता है।

इकरारनामा कैसे लिखा जाता है ?

अलग – अलग उद्देश्यों के लिए अलग – अलग तरह के इकरारनामा लिखा जाता है। जैसे – मकान किराये पर देने के लिए, जमीन की खरदी बिक्री के लिए अलग – अलग तरह के इकरारनामा लिखा जाता है।

सारांश –

जमीन का इकरारनामा कैसे लिखें, इसकी पूरी जानकारी सरल तरीके से यहाँ बताया गया है। अब कोई भी व्यक्ति बिना किसी परेशानी के इकरारनामा सम्बंधित दस्तावेज बना पायेगा। अगर इसके सम्बन्ध में कोई और सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हो। भूलेख जमीन रिकॉर्ड से सम्बंधित ऐसे ही नई – नई उपयोगी जानकारी पाने के लिए गूगल सर्च बॉक्स में bhulekhbhunaksha.in सर्च करें। धन्यवाद !

शेयर करें :

अपनी समस्या या सुझाव यहाँ लिखें