Bhulekh BhuNaksha » भू अभिलेख » जमीन को अपने नाम कैसे करें

जमीन को अपने नाम कैसे करें

जमीन को अपने नाम कैसे करें jameen ko apne naam kaise kare : जमीन एक अचल संपत्ति होने के कारण हर कोई अपने जीवन काल के दरमियान पैसे इकट्ठा करके जमीन की खरीदारी करता है। जमीन के रेट हर जगह पर अलग-अलग होते हैं।

शहरी इलाके में जमीन ग्रामीण इलाके की तुलना में अधिक दाम पर बेची जाती है, वही जो जमीन मुख्य रोड पर होती है उसकी कीमत भी ज्यादा ही होती है।

अगर आप भी जमीन खरीदना चाहते हैं और आप यह जानना चाहते हैं, कि जमीन को अपने नाम पर कैसे करवाते हैं अथवा जमीन अपने नाम पर करवाने के नियम क्या है तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हुए हैं, क्योंकि इस आर्टिकल में आपको हम “जमीन को अपने नाम कैसे करें” की जानकारी दे रहे हैं।

jameen-ko-apne-naam-kaise-kare

जमीन को अपने नाम कैसे करें ?

जमीन को अपने नाम पर करवाने से संबंधित  भारतीय सरकार के द्वारा कुछ नियम और कानून बनाए गए हैं। जिसके बारे में जमीन खरीदने वाले व्यक्ति और जमीन बेचने वाले व्यक्ति दोनों को ही पता होना चाहिए, क्योंकि अगर आपको जमीन खरीदने के सही नियम नहीं पता होंगे तो आप जमीन खरीदने में धोखाधड़ी का शिकार भी हो सकते हैं।

आमतौर पर जमीन खरीदी और जमीन बिक्री का काम रजिस्ट्रार ऑफिस में होता है जो हर जिले में मौजूद होता ही है। इसलिए आपको जमीन खरीदी और बिक्री का काम रजिस्ट्रार ऑफिस में जा कर के ही संपन्न करवाना पड़ेगा।

1. जमीन की कीमत पता करें

जमीन खरीदी का पहला कदम यह होता है कि आप जिस जमीन को खरीदना चाहते हैं आपको उस जमीन की कीमत कितनी है, इसके बारे में पता करना चाहिए।

क्योंकि कई बार जो जमीन का मालिक होता है वह यही चाहता है कि उसे जमीन का अधिक से अधिक दाम मिले। इसलिए पहले ही वह जमीन के भाव को बढ़ा चढ़ाकर बताता है परंतु आपको उसकी बात पर विश्वास ना करते हुए जमीन की मार्केट वैल्यू निकालने का प्रयास करना चाहिए।

 मार्केट वैल्यू निकालने के लिए आप जहां पर जमीन है वहां पर अन्य जमीनों के भाव पता कर सकते हैं या फिर लोगों से भी जमीन के रेट की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, ताकि आप जमीन की सही सही कीमत दे और ज्यादा पैसे देने से बच जाएं।

2. स्टांप ड्यूटी पेपर खरीदें

जमीन की कीमत पता चल जाने के बाद आपको non-judicial स्टांप ड्यूटी पेपर खरीदने की आवश्यकता होती है। यह आपको किसी भी हाईकोर्ट से आसानी से मिल जाता है। स्टांप ड्यूटी पेपर के जो पैसे होते हैं वह हर राज्य में अलग-अलग होते हैं।

अगर उदाहरण के सहित समझे तो मान लीजिए कि किसी घर की कीमत अथवा जमीन की कीमत ₹2000000 है और उस जमीन अथवा मकान की कीमत सरकारी हिसाब से 22 लाख रुपए है तो आपको स्टांप ड्यूटी 22 लाख रुपए का ही बनवाना पड़ेगा। आप स्टांप ड्यूटी की खरीदारी लाइसेंस सेलर के द्वारा भी कर सकते हैं।

3. जमीन खरीदी और बिक्री के कागज तैयार करवाएं

आपको जमीन अपने नाम पर करवाने के लिए जमीन के जो भी दस्तावेज होते हैं उन्हें भी बनवाने की आवश्यकता होती है। कई बार जमीन बेचने वाले व्यक्ति के द्वारा ही यह सभी दस्तावेज बनाए जाते हैं।

परंतु सामने वाला व्यक्ति अगर इन सभी दस्तावेज को बनवा पाने में असमर्थ हैं, तो आप भी यह दस्तावेज बनवा सकते हैं।

जमीन खरीदी और बिक्री दस्तावेज में मकान मालिक का नाम और जमीन की अन्य जानकारी दर्ज होती है जिसमें यह लिखा जाता है कि जमीन बेचने वाले व्यक्ति के द्वारा दूसरे व्यक्ति को जमीन बेच दी गई है।

और जिस व्यक्ति को जमीन बेची गई है वहीं अब जमीन का मालिक है साथ ही दस्तावेज में जमीन की कुल कीमत भी लिखी गई होती है।

4. सब रजिस्ट्रार ऑफिस जाएं

ऊपर बताए हुए काम कर लेने के पश्चात आपको अपने आवश्यक दस्तावेज को लेकर के अपने घर के पास में मौजूद अथवा अपने इलाके के अंतर्गत आने वाले रजिस्ट्रार ऑफिस में जाना है। साथ ही जिस व्यक्ति से आप जमीन खरीद रहे हैं उसे भी आपको रजिस्ट्रार ऑफिस में बुला लेना है।

याद रखें कि आपको अपने साथ दो गवाह भी लेकर जाना है साथ ही जो व्यक्ति जमीन बेच रहा है उसे भी अपने साथ दो गवाह लेकर आने पड़ेंगे।

यहां पर आपके पहचान पत्र, आधार कार्ड जैसे दस्तावेज आपके पास होने चाहिए साथ ही जब आप दस्तावेज जमा कर देंगे तो आपको जो रसीद मिलेगी उसे भी आप को संभाल कर रखना है।

5. अब रजिस्ट्री दस्तावेज प्राप्त कर लें

ऊपर बताई गई प्रक्रिया जब आपके द्वारा कर ली जाती है तो उसके बाद आपके द्वारा जो भी  दस्तावेज जमा किए जाते हैं उनके चैकिंग की जाती है।

अगर सभी दस्तावेज सही होते हैं तो दस्तावेज को स्वीकार कर लिया जाता है और जमीन आप के नाम पर कर दी जाती है, जिसके बाद आप रजिस्ट्रार ऑफिस से जमीन की रजिस्ट्री प्राप्त कर सकते हैं।

इसके तकरीबन 20 दिनों के बाद जब आप अपने राज्य के खसरा खतौनी वाली वेबसाइट को चेक करते हैं तो आपको उस पर भी आपने जो जमीन खरीदी हुई है उस पर जमीन आपके नाम पर चढी हुई दिखाई देती है।

जमीन खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें

जमीन खरीदने से पहले आपको निम्न बातें ध्यान में रखनी चाहिए ताकि आप किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी का शिकार ना हो।

  • जमीन खरीदने से पहले आपको यह पता करना चाहिए कि जिस जमीन की खरीदारी आप करना चाहते हैं उस जमीन का असली मालिक कौन है। यह जानना इसलिए आवश्यक है। क्योंकि कई बार जमीन के दलाल भी आपके साथ जमीन की डील करते हैं।
  • और वह आप से अधिक पैसे लेने का प्रयास करते हैं। इसलिए जब आपको असली मालिक का पता रहेगा तो आप उनसे डायरेक्ट संपर्क कर सकेंगे और दलालों को दी जाने वाली दलाली से बच सकेंगे।
  • किसी कंपनी या फिर डीलर से प्रॉपर्टी खरीदने की अवस्था में आपको कंपनी और डीलर के बैकग्राउंड के बारे में पूरी जानकारी लेनी चाहिए। आपको यह पता करना चाहिए कि उनके द्वारा अभी तक कितनी जमीनों को बेचा गया है।
  • आपको हमेशा विश्वसनीय डीलर से ही अथवा कंपनी से जमीन की खरीदारी करनी चाहिए।
  • जमीन खरीदने से पहले आपको जमीन का मार्केट रेट पता करना चाहिए ताकि आप जमीन का अधिक दाम देने से बच जाएं और जमीन का जो उचित दाम है उसके दाम के हिसाब से ही आप जमीन को खरीदें।
  • कुछ शहरों में अथवा ग्रामीण इलाके में जमीन खरीदी अथवा जमीन को अपने नाम पर करवाने के नियम अलग-अलग होते हैं। इसलिए आपको नियम के बारे में जानकारी हासिल करनी चाहिए।
  • इसके बारे में आप वकील से सहायता ले सकते हैं अथवा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। आप चाहे तो इंटरनेट की सहायता से भी जमीन अपने नाम पर करवाने से संबंधित इंफॉर्मेशन प्राप्त कर सकते हैं।
  • जिस जमीन को आप अपने नाम पर करवाना चाहते हैं अथवा खरीदना चाहते हैं, आपको उसके बारे में यह भी पता कर लेना है कि उस जमीन पर कहीं कोई कोर्ट केस तो नहीं चल रहा है।
  • अथवा उस जमीन को लेकर के किन्हीं लोगों के बीच विवाद तो नहीं चल रहा है। अगर जमीन विवादास्पद है तो ऐसी जमीन को अपने नाम पर करवाने से आपको बचना चाहिए।

सारांश -:

जमीन को अपने नाम करवाने के लिए सबसे पहले उस जमीन से सभी कागजात देखें। अगर किसी कागजात में कोई कमी हो तब राजस्व विभाग में उसे सुधार करवाएं। फिर जमीन अपने नाम करवाने संबंधी कागजात बनवाएं। इस काम में आप किसी अच्छे वकील की सहायता ले सकते है। कागजात तैयार होने के बाद इसे राजस्व विभाग में जमा करें। निर्धारित प्रक्रिया के बाद जमीन आपके नाम हो जायेगा।

जमीन किसके नाम पर है 2 मिनट में पता करें

खेत किसके नाम है कैसे जाने ऑनलाइन

ऑनलाइन रजिस्ट्री कैसे चेक करें

नाम से खसरा खतौनी कैसे निकाले

सामान्य प्रश्न (FAQ)

पिता की जमीन को अपने नाम कैसे करे?

इसके लिए आप दाखिल खारिज कर सकते हैं। राजस्व विभाग में जाकर दाखिल ख़ारिज का आवेदन जमा करें। इसके बाद निर्धारित प्रक्रिया के बाद जमीन आपके नाम हो जायेगा।

जमीन नाम कराने के लिए क्या करना पड़ता है?

जमीन नाम कराने के लिए सबसे पहले उस जमीन का कागजात तैयार करें। इसमें आप किसी अच्छे वकील की मदद ले सकते है। फिर रजिस्ट्रार ऑफिस में आवेदन जमा करें। निर्धारित प्रक्रिया के बाद जमीन आपके नाम पर आ जायेगा।

जमीन में नाम कैसे सही करें?

जमीन में नाम सही करवाने के लिए सबसे पहले जमीन का कागजात जैसे – खसरा खतौनी नक्शा आदि तैयार करें। फिर आप निर्धारित आवेदन देकर जमीन में नाम सही करवा सकते है। यह काम आप रजिस्ट्रार ऑफिस से हो जायेगा।

शेयर करें :

4 thoughts on “जमीन को अपने नाम कैसे करें”

  1. i am sushmita
    hamari rajistri jamin h 1995 me ki gai thi commersial me jo 30 sal ke bad navnikaran h 2025 26 me jayega
    but problem ye h ab vo jamin puri comersial se ab commercial or awasiy ban gai h …matlab pahle coyla lakdi ka big shop tha toh commercial bana tha jo 2001 me vo bisnuss band kr front pr normol shop or back me awasiy ghhar bani ..or hum 1995 se aj tak puri jamin ka comercial praperti tax dere …..jabki present me commarcial or awasiy jamin h …. 2025 20 26 m e agla navnikaran h isme sudhar kr skte rajistri ?….ya raddd kr new banwana padega ? pls bataye

    Reply

अपनी समस्या या सुझाव यहाँ लिखें