Bhulekh BhuNaksha » भू अभिलेख » जमीन का सीमांकन कैसे करें 2022

जमीन का सीमांकन कैसे करें 2022

जमीन का सीमांकन कैसे करें jameen ka seemankan kaise kare : हमारे देश में जमीनों से संबंधित बहुत सारे वाद-विवाद हमेशा चर्चा में आते ही रहते हैं जिसमें मुख्य तौर पर किसी व्यक्ति के द्वारा किसी व्यक्ति की जमीन पर जब अवैध कब्जा कर लिया जाता है। तो उस व्यक्ति को अपनी जमीन से कब्जा हटवाने के लिए यहां-वहां भाग दौड़ करने की आवश्यकता होती है।

परंतु अगर व्यक्ति चाहे तो थोड़ी सी चालाकी दिखा करके इन सब झंझटो से मुक्ति पा सकता है। क्योंकि अगर व्यक्ति अपनी जमीन का सीमांकन करवा लेता है और सीमांकन होने के पश्चात अपनी जमीन की घेराबंदी कर लेता है, तो उसकी जमीन पर कोई भी व्यक्ति कब्जा नहीं कर सकेगा।

ना ही कोई भी व्यक्ति अपना दावा ठोक सकेगा। इसीलिए अगर आप भी अपनी जमीन का सीमांकन कराना चाहते हैं तो आपको “जमीन का सीमांकन कैसे करें” के बारे में पता होना चाहिए।

jameen-ka-seemankan-kaise-kare

जमीन का सीमांकन क्या है ?

जमीन का सीमांकन जमीन से संबंधित एक प्रक्रिया होती है। अगर आप अपनी जमीन का सीमांकन करवाते हैं तो इसके द्वारा आप को इस बात की जानकारी प्राप्त हो जाती है, कि आप की जमीन का जो खसरा नंबर है, वह कौन सी जगह पर अर्थात कौन सी लोकेशन पर मौजूद है।

इसके अलावा जमीन सीमांकन करवा करके आप अपने खेत की पैमाइश अथवा अपने खेत को भी नपवा सकते हैं और जहां तक आपका खेत का रकबा निकलता है, वहां तक आप कबजा कर सकते हैं अथवा कब्जा करने का उचित प्रबंध कर सकते हैं।

जमीन का सीमांकन कैसे करें ?

देश में कुछ राज्य ऐसे हैं जहां पर जमीन का सीमांकन करवाने के लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही प्रकार से आवेदन कर सकते हैं। वहीं कुछ राज्य ऐसे हैं जहां पर जमीन का सीमांकन करवाने के लिए आप ऑफलाइन ही आवेदन कर सकते हैं।

जमीन का सीमांकन करवाने के लिए मुख्य तौर पर भारत के ग्रामीण इलाके में पटवारी अथवा लेखपाल या फिर कानूनगो को अधिकार दिया गया है। यही लोग किसी भी जमीन का नाप करते हैं और फिर उसका बॉर्डर तय करते हैं। इसके अलावा कुछ राज्यों में तहसीलदार के द्वारा आदेश जारी करने के पश्चात जमीन का सीमांकन संबंधित कर्मचारी करते हैं।

जमीन सीमांकन के नियम

जमीन सीमांकन के कुछ नियम होते हैं जिसे पूरा करने के बाद ही आप की जमीन का सीमांकन किया जाता है। जमीन सीमांकन नियम के अनुसार उसी जमीन का सीमांकन किया जाएगा जो जमीन किसी भी प्रकार के वाद-विवाद अथवा लफड़े में नहीं फसी होगी अर्थात जो जमीन किसी भी प्रकार से विवादित नही है, उसी जमीन का सीमांकन किया जा सकेगा।

इसके अलावा जमीन का सीमांकन करवाने के लिए सबसे पहले आपको अपनी जमीन का बंटवारा भी कर लेना है। जमीन का बंटवारा हो जाने के बाद आपको अपनी जमीन के नक्शे को भी तरमीम करवा लेना है। इसके बाद आप जमीन सीमांकन की प्रक्रिया को प्रारंभ कर सकते हैं।

जमीन सीमांकन हेतु आवश्यक दस्तावेज

जमीन सीमांकन करवाने के लिए आपको कुछ दस्तावेज प्रस्तुत करने पड़ सकते हैं, जो निम्नानुसार है। इसलिए इन आवश्यक दस्तावेज की फोटो कॉपी पहले ही इकट्ठा करके रखें, ताकि बाद में आपको दस्तावेज के अभाव में जमीन सीमांकन की प्रक्रिया रोकनी ना पड़े।

  • आवेदक का आधार कार्ड की फोटोकॉपी।
  • वर्तमान खसरा खतौनी की नकल की फोटोकॉपी।
  • वर्तमान नक्शा की नकल की फोटोकॉपी।
  • भू अधिकार ऋण पुस्तिका की फोटोकॉपी।
  • मोबाइल नंबर।

जमीन सीमांकन हेतु ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

जमीन सीमांकन हेतु ऑनलाइन आवेदन करने के पहले ही आपको अपने खसरे की पीडीएफ को तैयार कर लेना है। साथ ही आपको अपने नक्शे की पीडीएफ को भी तैयार कर लेना है और आपको अपने आधार कार्ड को भी अपने कंप्यूटर में पीडीएफ फॉर्मेट में सेव कर लेना है। उसके पश्चात आपको नीचे दी गई कार्यवाही को पूरा करना है।

  • जमीन सीमांकन हेतु ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको अपने राज्य की आधिकारिक लैंड रिकॉर्ड वाली अथवा राजस्व डिपार्टमेंट वाली वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर पहुंचने के पश्चात आपको अप्लाई वाला ऑप्शन मिलेगा, उस पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको सीमांकन वाला ऑप्शन मिलेगा उस पर आपको क्लिक कर देना है।
  • अब आपकी स्क्रीन पर सीमांकन का एप्लीकेशन फॉर्म ओपन हो करके आएगा, उसमें मांगी जा रही सभी जानकारियों को आपको निश्चित जगह में दर्ज करना है।
  • सभी जानकारियों को भरने के बाद एक बार क्रॉस चेक कर ले की सभी जानकारियां सही है अथवा नहीं। अगर सभी जानकारियां सही है तो नेक्स्ट वाली बटन दबाएं।
  • उसके पश्चात अपलोड डॉक्यूमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करें और संबंधित डॉक्यूमेंट को भी डिजिटल फॉर्मेट में अपलोड कर दें।
  • अब आपको पेमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है और जमीन सीमांकन का आवेदन के लिए जो पेमेंट तय की गई है उसे जमा कर देना है।
  • इसके पश्चात सबसे आखरी में आपको सबमिट बटन दबानी है।

अब आपके डिवाइस की स्क्रीन पर आपको एक रसीद दिखाई दे रही होगी, उसे आपको डाउनलोड कर लेना है अथवा उसका प्रिंट आउट निकाल लेना है।

जमीन का सीमांकन हेतु ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया

अगर आपके राज्य में जमीन सीमांकन करवाने के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया नहीं है, तो आप ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया का सहारा ले सकते हैं।

ऑफलाइन प्रक्रिया के अंतर्गत आपको सबसे पहले अपने सभी आवश्यक दस्तावेज की फोटोकॉपी करवा लेनी है। आवश्यक दस्तावेज की जानकारी हमने ऊपर आर्टिकल में दी हुई है।

दस्तावेज की फोटोकॉपी करवाने के पश्चात आपको अपने इलाके के अंतर्गत आने वाले ब्लॉक परिसर में जाना है अथवा तहसीलदार के पास जाना है और साथ में आपको एक सीमांकन करवाने हेतु एप्लीकेशन फॉर्म भी लेकर के जाना है।

इसके बाद आपको तहसीलदार के पास आवेदन पत्र और आवश्यक दस्तावेज जमा करने हैं अथवा ब्लॉग के पटवारी या फिर कानूनगो के पास जरूरी दस्तावेज तथा आवेदन पत्र जमा करना है।

इसके बाद तहसीलदार के द्वारा आपके जमीन के सीमांकन का आदेश जारी किया जाएगा और निश्चित दिन कानूनगो अथवा लेखपाल आपकी जमीन का सीमांकन करने के लिए आपके एरिया में आएंगे। इस प्रकार से आपको उनसे मुलाकात करनी है और अपनी जमीन का सीमांकन करवा लेना है।

किसान ऐप से जमीन का सीमांकन कैसे करें ?

मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा एमपी किसान एप्लीकेशन लांच की गई है, जो कि गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद है। इस प्रकार से अगर आप मध्यप्रदेश राज्य के निवासी हैं, तो आप मध्यप्रदेश राज्य में अपनी जमीन का सीमांकन करवाने के लिए क‍िसान एप्‍प के द्वारा भी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

  • इसके लिए आपको सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर पर जाना है और गूगल प्ले स्टोर पर एमपी किसान एप्लीकेशन को सर्च करना है।
  • एप्लीकेशन प्राप्त हो जाने के पश्चात उसके ऊपर क्लिक करके आपको एप्लीकेशन को डाउनलोड कर लेना है।
  • उसके बाद एप्लीकेशन को ओपन करना है।
  • ओपन करने के बाद आपको सीमांकन वाला ऑप्शन हासिल होगा, आपको उसके ऊपर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपकी स्क्रीन पर एप्लीकेशन फॉर्म आएगा, उसमें आपको अपने नाम के अलावा जमीन से संबंधित सभी जानकारियों को दर्ज करना है।
  • इसके बाद आवश्यक दस्तावेज अपलोड करना है तथा फाइनल सबमिट कर देना है।

इसके बाद निश्चित दिन में कर्मचारियों के द्वारा आपसे संपर्क किया जाएगा और मौके पर आकर के आपकी जमीन का सीमांकन किया जाएगा।

जमीन बंटवारा नियम क्या है

नामांतरण कैसे चेक करे ऑनलाइन

बाप दादा की प्रॉपर्टी में किसका कितना अधिकार

पिता की जमीन को अपने नाम कैसे करें

जमीन खरीदने से पहले क्या करना चाहिए

सामान्य प्रश्न (FAQ)

जमीन का सीमांकन कैसे किया जाता है ?

जमीन का सीमांकन करवाने के लिए सबसे पहले राजस्व विभाग में ऑनलाइन या ऑफलाइन माध्यम से आवेदन करना होता है। इसके बाद राजस्व विभाग के अधिकारी निर्धारित जगह पर आकर सीमांकन की प्रक्रिया को पूरा करेंगे।

जमीन का सीमांकन कितने दिन में होता है ?

जमीन का सीमांकन आवेदन करने के उपरांत 30 दिनों के अंदर होता है। लेकिन इसके लिए आपके आवेदन में कोई कमी नहीं होना चाहिए और सभी जरुरी डॉक्यूमेंट जमा होना चाहिए। अगर आवेदन में कोई त्रुटि हो तब सीमांकन का समय में देरी हो सकती है।

जमीन के सीमांकन में कितना पैसा लगता है ?

जमीन के सीमांकन में कुछ मामूली पैसे लगते है। जैसे – आवेदन फॉर्म, डॉक्यूमेंट की फोटोकॉपी। इसके साथ ही राज्य के अनुसार कुछ मामूली फीस लग सकती है, जो राजस्व विभाग निर्धारित करती है। इसके अलावा सीमांकन में कोई भी पैसा नहीं लगता है।

सारांश –

जमीन का सीमांकन करने के लिए सबसे पहले सभी जरुरी डॉक्यूमेंट को तैयार करें। इसके बाद ऑनलाइन और माध्यम से सीमांकन हेतु आवेदन जमा करें। फिर राजस्व विभाग के अधिकारी आपके आवेदन की जाँच उपरांत सीमांकन के के लिए टीम को भेजेगा। निर्धारित जमीन के पास आकर जमीन का नाप करके सीमांकन किया जायेगा। इस तरह राजस्व विभाग द्वारा जमीन का सीमांकन की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

जमीन का सीमांकन कैसे करें इसकी पूरी जानकारी यहाँ हमने विस्तार से बताया है। अगर इसमें आपको कोई परेशानी आये या जमीन सीमांकन से सम्बंधित आपके मन में कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। हम बहुत जल्दी आपको रिप्लाई करेंगे। भू अभिलेख से सम्बंधित ऐसे ही नई – नई जानकारी पाने के लिए गूगल सर्च बॉक्स में सर्च करें – bhulekhbhunaksha.in धन्यवाद !

शेयर करें :

अपनी समस्या या सुझाव यहाँ लिखें